मेन्यू बंद करे

सरल और असरदार घरेलू नुस्खे जो है पैर में सूजन का इलाज

पैरों में सूजन का इलाज




Contents hide

पैर में सूजन क्या होता है

शरीर के किसी भी हिस्से में सूजन का होना किसी बीमारी का संकेत होता है। इनमे से मुख्य है “पैर में सूजन” होना जो कि शरीर में द्रव के इकठा होने व जमा के कारण होता है। पैर में सूजन होना वैसे तो एक आम समस्या है लेकिन इस का बार बार होना किसी बड़ी बीमारी का संकेत होता है।



पैर में सूजन गुर्दे और शरीर के कई अन्य अंगों से जुड़ी बीमारी का संकेत करती है। पैर की सूजन में पैरों पर और एड़ियों पर फुलाव होना और पैरों का आकार बड़ा दिखाई देने लगता है। कई बार पैरों में दर्द नही होता लेकिन बाद में चल कर बहुत भयानक रूप धारण कर लेती है, जो कि हमारी ज़िंदगी में रुकावट बन जाती है। इसलिए हमारे लिए जरूरी है पैर में सूजन के लक्षण जानना और समय पर पैर में सूजन का इलाज करना।

पैर में सूजन के लक्षण

  • शरीर के अंगों में दर्द होना और जकड़न का महसूस होना।
  • चेहरे, आंखों और टखनों के पास फुलाव का होना।
  • त्वचा का सूजा, तना व चमकदार होना।
  • त्वचा को उंगली से दबाने पर वहाँ कुछ सेकंड के लिए गड्ढे का बन जाना और फिर उभर कर त्वचा का आना।
  • वजन का बढ़ना या घटना भी सूजन के लक्षण हो सकते हैं।
  • अचानक से सिर में दर्द होना।
  • अचानक से ब्लड प्रेशर का बढ़ना।
  • पैरों में दर्द का होना।
  • देखने की क्षमता में कमी का आ जाना।
  • खाने का हज़म ना होना व मन बेचैन रहना।

पैर में सूजन के कारण-Pairo Me Sujan Ke Karan

पैर में मोच आना

कही से गिरने पर पैर के मूड जाने के कारण पैर में मोच आने से सूजन हो सकती है। बहुत देर तक पैरों को लटका कर बैठे रहने से सारा खून नीचे की और इकठा होने से भी पैरों में सूजन आने का कारण बन सकते हैं। यह होता है गृतवकर्षन बल की वजह से जिस से खून नीचे की और इकठा हो जाता है।

दूर तक चलना

दूर तक पैदल चलने से या फिर ज्यादा दौड़ना भी दोनों पैरों में सूजन के कारण हो सकता है।

ह्दय की बीमारी

जिन लोगों में ह्दय की बीमारी होती है उन के ह्दय के ठीक से काम ना करने के कारण द्रव नीचे जमा हो जाता है जिस से पैरों में सूजन हो जाती है। इस प्रकार अगर पैरों में सूजन हो तो इस का उपचार सही ढंग से कराना चहिए क्योंकि यह ह्दय से जुड़ी बीमारी के कारण भी हो सकता है।

लिवर और गुर्दे की बीमारी

जिन लोगों में लिवर व गुर्दे के रोग होते हैं उनमें अलुब्युमिन प्रोटीन कम हो जाता है। जिस से द्रव रिसने लगता है और यह पैरों में सूजन आने का कारण बनता है।

दवाएं

कई बार हमारे द्वारा किसी अन्य बीमारी के लिए लई गयी दवाइयां भी पैरों में सूजन आने का कारण बन जाती हैं।

गर्भावस्था

गर्भावस्था में पैरों की सूजन होना एक आम समस्य है अक्सर गर्भवती औरतों में यह पाई गई है। यह गर्भवती औरत में खून की मात्रा बढ़ने के कारण भी होता है। लेकिन यह गर्भावस्था के बाद खुद ही सही हो जाती है।

नस का रुक जाना व ब्लॉक हो जाना

टांग में किसी नस का रुक जाना व ब्लॉक हो जाना भी इस का एक कारण बन सकता है जिस से ह्दय में खून पम्प ना होने की वजह से पैर में सूजन होती है।

मोटापा

दोनों पैरों में सूजन के कारण है मोटापा। मोटापा होने की वजह से भी पैरों में सूजन हो सकती है।



पैरों में सूजन से बचाव

  • सुबह जल्दी उठें और नियमित प्राणायाम करें।
  • जंक फूड, बासी भोजन, ठंडे और खट्टे पदार्थों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए।
  • अधिक नमक और अधिक मीठे का सेवन न करें।
  • सब्जियों में कद्दू का सेवन अवश्य करें। यह सूजन को कम करने में मदद करता है।
  • जहा तक हो सके पोष्टिक खाने का सेवन करें जिस से पाचन शक्ति मजबूत रहेगी और इस से बचाव हो सकता है।
  • अधिक पानी का सेवन न करें।

पैरों में सूजन का इलाज-Pairo Me Sujan Ka Ilaj

  • सूजन का उपचार है पैरों को हिलाते रहें जिस से जमा हुआ खून व द्रव में कम्पन पैदा होगा इस से आराम मिल सकता है।
  • पैरों में सूजन का इलाज है पैरों की मालिश करे जिस से पैरों में गर्मी पैदा होगी और गर्मी से खून में गति आने लगेगी।
  • अपना वजन को कम करने की कोशिश करें।
  • इसकी जांच किसी डॉक्टर से करवा उनकी सलाह से दवाई लीजिये।
  • पैरों की सूजन कम नही होती तो ह्दय और लिवर की जांच करवाएं अगर यह लिवर की बीमारी की वजह से हो रहा है तो उस बीमारी का उपचार करवाएं।

पैर में सूजन कम करने के घरेलू उपाय

आम तौर पर पैरों का सूजन कम करने के लिए लोग सबसे पहले घरेलू नुस्ख़ों को ही आजमाते हैं। इस लेख में हम कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बात करेंगे जिनकी मदत से पैर में सूजन का इलाज किया जा सकता है।

धनिया से करे पैर में सूजन का इलाज

धनिया के सूखे बीज और ताजा हरा धनिया दोनों में ही सूजन को ठीक करने के गुण होते है। पैरों में सूजन होने पर एक गिलास पानी को उबलने के लिए रख दें और इसमें तीन चम्मच साबुत धनिया डाल दें। इसे तब तक उबाले जब तक कि पानी आधा गिलास न रह जाये। अब इसे छान लें और एक चम्मच शहद डालकर दिन में दो बार इसे पिएँ।

पैर में सूजन का इलाज है गर्म पानी का सेंक

गरम पानी में नमक डालकर उसमें पैरों को डुबाएँ जब पानी ठण्डा हो जाए तब पैरों को निकाल लें। गरम पानी के सेंक से पैर में सूजन कम होती है।

पैरों के सूजन में फायदेमंद है कॉन्ट्रास्ट हाइड्रोथेरेपी

पैरों में सूजन को दूर करने के लिए आप कॉन्ट्रास्ट हाइड्रोथेरेपी भी कर सकते हैं। इस थेरेपी के लिए दो अलग-अलग टब में ठंडा और गर्म पानी भर लें। पहले अपने पैरों को 3-4 मिनट गर्म पानी में डाल कर रखें, इसके तुरंत बाद पैरों को 1 मिनट तक ठंडे पानी में डालें। इसी प्रक्रिया को 15 से 20 बार दोहराएँ जब तक सूजन न चली जाए। गर्मियों के मौसम में ठन्डे पानी पर इस प्रक्रिया को खत्म करे और सर्दियों के मौसम में इस प्रक्रिया को गरम पानी पर खत्म करे। इस प्रक्रिया को रोजाना दोहराएँ।

नींबू पानी भी है पैरों में सूजन का इलाज

एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। यह पैरों के साथ साथ शरीर के दूसरे हिस्सों में होने वाली सूजन को भी दूर करता है।

पैर में सूजन का इलाज करता है जैतून का तेल

थोड़े से जैतून के तेल को गरम करे अब इस में दो-तीन लहसुन की कली काटकर भून लें और भून जाने पर इसमें से लहसुन अलग कर लें। इस तेल से मालिश करने से पैरों की सूजन ठीक होती है और दर्द से भी आराम मिलता है।

पैर में सूजन कम करता है अदरक का सेवन

एक गिलास पानी में एक छोटे टुकड़े अदरक को डालकर उबालें। अच्छी तरह पक जाने पर इसे गुनगुना करके पिएँ या फिर चाय में अदरक का इस्तेमाल करें।



डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए ?

अनुचित खानपान एवं जीवनशैली के कारण कभी-कभी पैरों में सूजन आ सकती है। ऐसे में कुछ घरेलु उपाय एवं आराम करके आप खुद ही ठीक हो जाते है परंतु बार-बार पैरों में सूजन की समस्या रहने पर या एक सप्ताह से ज्यादा दिनों तक सूजन बने रहने पर यह गुर्दों से संबंधित या हृदय से संबंधित बीमारी होने का संकेत होता है। अत: इस समस्या को गंभीरता से लेते हुए डॉक्टर से सलाह लेकर उपचार करना चाहिए।

0 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *