मेन्यू बंद करे

कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें-जानिए कौन से है कैल्शियम रिच फ़ूड

कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें




कैल्शियम क्या होता है?

कैल्शियम हमारे शरीर में प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला खनिज है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी और लाभदायक है। कैल्शियम एक रासायनिक तत्व है जो मनुष्यों सहित जीवित जीवों के लिए बहुत आवश्यक है। हमारी हड्डियों को मजबूत बनाने और मस्तिष्क के बाकी हिस्सों के साथ प्रभावी संचार बनाए रखने के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है।



कैल्शियम की कमी से हमारे शरीर को बहुत प्रकार के नुकसान हो सकते हैं और बीमारियां जकड़ सकती है इस लिए कैल्शियम की पूर्ति जरूरी है। कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें, कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग और उनके इलाज के बारे में जानना आवश्यक है। जिस से हम कैल्शियम की कमी होने पर इसका उपचार कर सकें और गंभीर प्रकार के रोगों से बचाव कर सकें।

कैल्शियम की कमी होने के कारण

कैल्शियम के आहार का भरपूर मात्रा में सेवन ना करना और कैल्शियम वाले पदार्थ का सेवन ना करने से इसकी कमी होना अवशक्यक है जिस से हड्डियों और मस्तिष्क का कमजोर होना जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

पोषक तत्वों की कमी होने की वजह से कैल्शियम की कमी हो सकती है। विटामिन डी, मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व की कमी होने से कैल्शियम की मात्रा में भी गिरावट आती है।

इसका एक कारण बढ़ती उम्र भी होती है जैसे जैसे व्यक्ति बजुर्ग अवस्था की और बढ़ता है तो शरीर में कैल्शियम की कमी होना शुरू हो जाता है।

यदि बच्चे को शुरुआत में गाय का दूध पिलाया जाता है, तो फास्फोरस की अधिक मात्रा के कारण बच्चे में कैल्शियम की कमी हो सकती है। जन्म के दौरान बच्चे को कैल्शियम युक्त आहार ना मिले तो भी इसकी कमी हो सकती है।

कैल्शियम की कमी के लक्षण

कैल्शियम की कमी का पहला और सबसे बड़ा लक्षण ऑस्टियोपोरोसिस है। ऐसी स्थिति में बच्चों की हड्डियाँ पहले कमजोर होने लगती हैं। अगर शरीर में कैल्शियम की कमी है, तो यह आसानी से टूट सकती है। साथ ही, मांसपेशियों में अकड़न और दर्द भी होने लगता है। कुछ मामलों में रिकेट्स नामक बीमारी की संभावना है।

मजबूत नाखूनों के लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। इसलिए आपके शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर नाखून बहुत कमजोर हो जाते हैं और वे टूटने लगते हैं। यदि ऐसा होता है, तो समझें कि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी है।

कैल्शियम की कमी होने पर बाल झड़ने लगते हैं। बाल सख्त और शुष्क हो जाते हैं।



कैल्शियम की कमी के लक्षण दांतों पर भी दिखते हैं इस से दांत कमजोर हो जाते हैं और टूटने लगते हैं। मसूड़ों में दर्द होने लगता है। अगर इस प्रकार के लक्षण आप में दिखाई दे रहे हैं तो समझ जाएं कि कैल्शियम की कमी है।

मासिक धर्म मे गड़बड़ी हो रही है और अनियमित समय पर आ रहा है तो यह कैल्शियम की कमी का लक्षण हो सकता है।

यदि व्यक्ति हर समय थका हुआ महसूस करता है, तो वह कैल्शियम की कमी से गुजर रहा है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जब शरीर में हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द होता है, तब थकान शुरू होती है।

कैल्शियम की कमी होने पर व्यक्ति को ठीक से नींद नहीं आती और तनाव जाता है।



कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें-कैल्शियम रिच फ़ूड

  • विटामिन डी यक्त पदार्थों का सेवन करना इसकी कमी पूरा करने का एक बढ़िया स्रोत है। कैल्शियम की कमी होने पर आपको धूप में बैठना और विटामिन डी देने वाले पदार्थों का सेवन करना जरूरी है।
  • कैल्शियम की कमी पूरा करने के लिए हमारे शरीर को मैग्नीशियम की भी जरुरत होती है। इसलिए हमें भोजन में ऐसे पदार्थो को भी लेना चाहिए, जिनसे हमें मैग्नीशियम की कमी पूरी हो।
  • कैल्शियम की कमी होने पर भोजन में यह सब्जियां शामिल करनी चाहिए। टमाटर, ककड़ी, मूली, मेथी, करेला, चुकन्दर, हरी पत्तेदार सब्जियां, अरबी के पत्ते, पालक आदि।
  • पपीते में बहुत सारा विटामिन सी होता है। शोध में पाया गया है कि जिन लोगों में विटामिन सी की कमी होती है, उनमें जोड़ों का दर्द आम है। इसलिए उन्हें नियमित रूप से पपीते का सेवन करना चाहिए, इस कैल्शियम की कमी को दूर किया जा सकता है।
  • आप कैल्शियम के लिए सूखे जड़ी बूटियों की मदद भी ले सकते हैं। अगर घर पर तुलसी के पत्ते या अजवाइन की पत्तियां या अजवाइन के बीज आसानी से मिल जाते हैं, तो हर दिन एक चम्मच का सेवन शुरू करें। आप इसे सलाद और सूप के साथ भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • कैल्शियम की कमी होने पर नियम से सात बादाम भिगोएँ और फिर उनका सेवन करें। भिगोने के बाद बादाम और भी अधिक पौष्टिक हो जाता है, जो बहुत फायदेमंद भी है।
  • यदि आप अपने भोजन में बहुत अधिक नमक खाते हैं तो इस को तुरंत कम कर दे क्योंकि नमक की ज्यादा मात्रा से भी कैल्शियम की कमी होती है।
  • कैल्शियम के अवशोषण में सोडा और सॉफ्ट ड्रिंक अच्छे नहीं हैं। इससे शरीर में फॉस्फेट की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे शरीर में कैल्शियम की मात्रा कम हो जाती है।
1 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *