Menu Close

पथरी में क्या खाएं क्या नहीं खाएं -किडनी स्टोन में कैसा होना चाहिए आपका आहार, क्या खाएं और क्या नहीं

पथरी मे परहेज ही है घरेलू इलाज

पथरी की बीमारी से आजकल कई लोग परेशान हैं। इस बात का आप भी अंदाजा लगा सकते हैं कि सिर्फ पथरी का इलाज करने के लिए कई अलग-अलग अस्पताल भी खोले गए हैं। इन अस्पतालों में मरीजों की संख्या भी बहुत देखने को मिलती है। पथरी एक बहुत गंभीर बीमारी है। जितना पथरी का उपचार आवश्यक है उतना ही पथरी मे परहेज भी आवश्यक है।

Contents hide

पथरी की बीमारी में खानपान का मुख्य तौर पर ध्यान देना चाहिए। अगर आपका खान-पान सही हो तो इसका खत्म भी किया जा सकता है। ज्यादा मात्रा में पेय पदार्थ पीने से पथरी ठीक हो सकती है। पेय पदार्थ पथरी के लिए बहुत मददगार होते हैं। खासतौर से पथरी की बीमारी के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से पथरी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

पथरी की समस्या में डॉक्टर भी आपको रोजाना छह से आठ गिलास पानी पीने की सलाह देते हैं। इसके अलावा आपको अपने डॉक्टर से यह भी पूछना चाहिए। कि आपको 1 दिन में कितना पानी पीना चाहिए। अगर आप पथरी के खतरे को कम करना चाहते हैं। तो आप बेस्ट डाइट प्लान को भी अपनाना चाहिए।

अधिक वजन वाले व्यक्तियों में पथरी की संभावना बढ़ जाती है। पथरी की समस्या को डॉक्टर से ना छुपाए नहीं तो काफी गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। पथरी से झुंझ रहे व्यक्तियों को क्या क्या नहीं खाना चाहिए। यह भी उनको जाना चाहिए। क्योंकि भोजन पथरी को कम करने में अहम भूमिका निभाता है। इस आर्टिकल में आगे हम आपको पथरी मे परहेज और पथरी से ग्रसित लोगों को क्या-क्या नहीं खाना चाहिए। उसके बारे में बताएंगे।

पथरी कितने प्रकार की होती हैं

पथरी को किडनी स्टोन की समस्या भी कहते हैं। अगर कोई व्यक्ति किडनी स्टोन की समस्या से पीड़ित है, तो उसको अपने डॉक्टर से यह पता करना चाहिए कि उसको कौनसी पथरी है। जिससे इसका इलाज करने में आसानी हो जाती है। अगर आपको पथरी पता चल जाए। तो आप उससे बचाव के आहार का भी सेवन कर सकते हैं। मुख्य तौर पर पथरी चार प्रकार की होती है।

  • कैल्शियम ऑक्सिलेट स्टोन्स
  • कैल्शियम फॉस्फेट स्टोन्स
  • यूरिक एसिड स्टोन्स
  • सिस्टीन स्टोन्स

इन चारों प्रकार की पथरी के लिए आपको अलग अलग डाइट प्लान का पालन करना चाहिए। पथरी में क्या परहेज करना चाहिए?
किडनी स्टोन में क्या खाना चाहिए इसका डाइट प्लान आप किसी किडनी एक्सपर्ट से ले सकते हैं।

पथरी मे परहेज, पथरी में क्या ना खाएं

प्रोटीन की मात्रा

पथरी के मरीजों को ज्यादा मात्रा में प्रोटीन का सेवन ना करें. ज्यादा प्रोटीन पथरी ग्रसित व्यक्तियों के लिए खतरनाक होता है। पथरी की बीमारी में भोजन में प्रोटीन की मात्रा को सीमित कर ले. ऐसी स्थिति में मीट मछली का सेवन ना करें.

See also  जानिए क्या है पतंजलि मूसली पाक के फायदे और कैसे करे उपयोग
प्रोटीन की मात्रा
प्रोटीन की मात्रा

ज्यादा सोडियम

पथरी के पेशेंट को ज्यादा सोडियम नहीं लेना चाहिए। भोजन में सोडियम की मात्रा कम रखनी चाहिए। अधिक सोडियम पथरी के लिए खराब साबित हो जाता है। जंग-फूड डिब्बाबंद खाना का सेवन नहीं करें और घर बनाए हुए खाने में भी सोडियम की मात्रा कम रखें।

ऑक्सलेट के सेवन से बचें

पथरी के बीमारी से जूंझ रहे व्यक्तियों को ऑक्सलेट से परहेज करना चाहिए। पथरी के मरीजों को ऑक्सलेट रहित भोजन किसी भी हाल में नहीं करना चाहिए। जैसे पालक, साबुत अनाज आदि इनमें भरपूर मात्रा में ऑक्सलेट पाया जाता है।

विटामिन सी के ज्यादा मात्रा

विटामिन सी के ज्यादा मात्रा में सेवन से भी पथरी की समस्या बढ़ सकती है। विटामिन सी अगर आपके शरीर में ज्यादा हो जाए। तो आपके शरीर में किडनी स्टोन की समस्या गंभीर हो सकती हैं। विटामिन सी का कम मात्रा में सेवन करें। जिससे यह खतरा कम हो सके.

बीजो वाली सब्जियों का सेवन

ज्यादा हरी सब्जियों से भी पथरी का रोग गंभीर बीमारी हो सकता है। ऐसी सब्जियों का सेवन कभी नहीं करें. जिसमें बीजों जो। बीच किडनी स्टोन का कारण बन सकते हैं। जैसे टमाटर के बीज, बैंगन के बीज, कच्चा चावल, उड़द, चने आदि का सेवन ना करें। अन्यथा यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है।

कोल्ड ड्रिंक का सेवन

पथरी के मरीज को गर्मियों में कोल्ड ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए। कोल्ड ड्रिंक और बाहर के जूस पथरी की समस्या को बढ़ावा देते हैं। वैसे तो पथरी कम करने के लिए पेय पदार्थ का उपयोग किया जाता है। लेकिन कोल्ड्रिंक्स में कई प्रकार के केमिकल मिले होते हैं। जिनकी वजह से पेट में पथरी की मात्रा बढ़ सकती है। वैसे तो नॉर्मल व्यक्ति को भी ज्यादा कोल्ड ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए। कोल्ड ड्रिंक शरीर के लिए गर्म करती है। और यह सेहत के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकती है।

सामान्य प्रश्न-पथरी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

पथरी में चावल खाना चाहिए या नहीं

बहुत से लोगों के मन में यह सवाल होता है की पथरी की समस्या के दौरन चावल खाने चाहिए या नहीं? पथरी में चावल खाने से किसी तरह का कोई भी नुकसान नहीं होता है। चावल में ऐसा कोई तत्व नहीं होता जो पथरी के दौरान समस्या पैदा करें उल्टा चावल पोषण से भरपूर होते है और शरीर में कार्बोहाइड्रेड की कमी को दूर करते है। हाँ चावल बनाते समय उसे अच्छी तरह से धोना चाहिए और इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की उसमें कोई कंकड़ पत्थर तो नहीं। और चावल को अच्छी तरह से पकाना भी चाहिए।

पथरी में कौन-कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए

पथरी की समस्या के दौरान खाने में सब्जी का विशेष ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि बहुत सी सब्जियां ऐसी होती है जिसमें आयरन और खनिज तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते है जो की शरीर में नमक आदि के संपर्क में आकर पथरी की समस्या को बढ़ा देते है। पालक, शकरकंदी, बेंगन, टमाटर आदि ऐसी सब्जियां है जो पथरी की समस्या को बढ़ा सकती है। टमाटर के छिलके, पालक में मिट्टी के छोटे छोटे कण आदि शरीर में धीरे धीरे जमा होते रहते है जिससे पथरी की समस्या देखने को मिलती है। बिना पथरी से ग्रसित लोगों को भी यह सब्जियां अच्छी तरह धोकर खानी चाहिए।

See also  जानिए क्या है ग्रीन कॉफी के फायदे-Benefits Of Green Coffee In Hindi

पथरी में आलू खाना चाहिए या नहीं

पथरी की समस्या के दौरान आलू खाया जा सकता है इसके सेवन से किसी भी तरह की कोई भी समस्या नहीं होती है। बस पथरी की समस्या के दौरान बीज वाली सब्जियों जैसे टमाटर, बेंगन आदि के सेवन से परहेज करनी चाहिए। आलू कार्बोहाइड्रेड से भरपूर होता है जो शरीर को ऊर्जावान बनाए रखता है।आलू को खाने से पहले उसे अच्छी तरह से पकाना चाहिए और देर रात में आलू का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि अच्छी तरह से पाचन न होने के कारण इससे गैस की समस्या या पेट दर्द की समस्या देखने को मिलती है।

पथरी में दूध पीना चाहिए या नहीं

प्राय पथरी की समस्या में डॉक्टर आदि अधिक मात्रा में दूध का सेवन करने से मना करते है। और तो और दूध से बने प्रोडक्ट का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि दूध में कैल्शियम की अधिकता पायी जाती है जो स्टोन के पास इकट्ठा होकर स्टोन की समस्या को बढ़ाता है। और आजकल बाजार में मिलावट युक्त दूध भी अधिक पाया जाता है जो पथरी की समस्या को बढ़ा देता है। जहाँ तक हो सके मिलावट युक्त दूध से परहेज करनी चाहिए और शुद्ध दूध का प्रयोग ही करना चाहिए।

पथरी में चाय पीना चाहिए या नहीं

पथरी की समस्या के दौरान अधिक चाय और कॉफी पीने से परहेज करनी चाहिए। क्योंकि इनमें केफिन की मात्रा अधिक होती है जिससे डीहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। चाय पीने पर पानी का सेवन कम हो जाता है। जबकि पथरी से ग्रसित व्यक्ति को अधिक मात्रा में पानी का सेवन करना चाहिए। जिससे पथरी के पेशाब मार्ग से बाहर निकलने की अधिक संभवना बनती है। चाय और कॉफी में पाया जाने वाला कैफीन पथरी की समस्या को बढ़ा देता है। चाय के स्थान पर नींबू पानी का इस्तेमाल अधिक फायदेमंद होगा।

पथरी में कौन सा फल खाना चाहिए

पथरी में अक्सर डॉक्टर फलों के सेवन की बात करते है लेकिन ऐसे फलों का सेवन नहीं करना चाहिए जिसका पाचन मुश्किल हो। पानी से भरपूर फलों का सेवन करना चाहिए। जैसे तरबूज, खरबूज, नारियल पानी आदि शरीर में पानी की कमी को दूर करते है। और खट्टे फलों जैसे संतरा आंवला आदि का सेवन करना चाहिए क्योंकि उसमें उपस्थित सिट्रिक एसिड पथरी को गलाने का काम करते है। फलों के साथ साथ पानी का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। पानी के अधिक सेवन से पथरी के मूत्र मार्ग से निकलने की संभवना रहती थी।

पथरी में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए?

पथरी की समस्या के दौरान ऐसे फलों का सेवन नहीं करना चाहिए जिसका पाचन मुश्किल से होता है और ऐसे फल जिनमें छोटे छोटे दाने या बीज पाए जाते है उनका सेवन करने से भी परहेज करनी चाहिए। टमाटर, चीकू आदि छिलके युक्त फल जिनके छिलके में बारीक मिट्टी के कण पाए जाते है जो की शरीर में जाकर स्टोन के पास इकट्ठा होने लगते है। जिससे स्टोन की समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है अतः ऐसे फलों का सेवन पथरी की समस्या के दौरान नहीं करना चाहिए। अनार और पपीता का भी अधिक सेवन पथरी की समस्या में हानिकारक हो सकता है।

पथरी में दही खा सकते हैं क्या?

पथरी की समस्या में दही फायदेमंद साबित हो सकता है। दही को पथरी की समस्या में उपचार के तौर पर लिया जाता है। दही में पाए जाने वाले विशेष बैक्टीरिया किडनी में उपस्थित हानिकारक तत्वों को दूर कर किडनी की सफाई का काम करते है जिससे किडनी स्टोन की संभावना कम हो जाती है। इसी के साथ दही को सुपर फूड माना जाता है जो की मोटापा घटाने में लाभकारी है। यह शरीर में कॉर्टिसॉल और स्टेरॉयड हार्मोन को बढ़ने से रोकता है। इसी के साथ यह कलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकने के साथ साथ इम्यूनिटी बूस्टर का भी काम करता है।

See also  आपकी सेहत के लिए क्या है अंकुरित मूंग के फायदे और नुकसान

पथरी में अनार खाना चाहिए या नहीं

पथरी की समस्या में हर प्रकार के फल सब्जियों को खाने में विशेष ध्यान रखना पड़ता है। अन्यथा पेट दर्द की समस्या पैदा हो जाती है जो की असहनीय दर्द देती है। पथरी की समस्या में अनार का सेवन करते समय भी विशेष ध्यान रखना चाहिए अधिक मात्रा में अनार नुकसान कर सकता है। जबकि अनार की सीमित मात्रा शरीर में रक्त निर्माण में लाभकारी होती है। अनार में भी छोटे छोटे बीज और फाइबर होते है जिनका जमाव स्टोन पर विपरीत असर डाल सकता है।

पथरी में पपीता खाना चाहिए या नहीं

देखा जाए तो पपीता एक बहुत ही ज्यादा लाभकारी फल है लेकिन पथरी की समस्या से ग्रसित लोगों को पपीते के सेवन से परहेज करनी चाहिए। विटामिन सी से भरपूर पपीता का अधिक सेवन करने से इसमें मौजूद कैल्शियम ऑक्सलेट टूटकर स्टोन बन जाते है जो की पथरी की समस्या को और ज्यादा भयावह बना देते है। अतः देखा जाए तो पथरी की समस्या से ग्रसित लोगों द्वारा पपीते का सेवन करने से स्टोन का आकार बढ़ने की संभावना रहती है। पपीते का ज्यादा सेवन आपके पाचन को भी बिगाड़ सकता है जिससे पेट दर्द की समस्या भी देखने को मिलती है।

पथरी में मछली खाना चाहिए

इंसानों में पथरी की अलग अलग समस्या देखने को मिलती है। जिसमें यूरिक एसिड स्टोन, कैल्शियम स्टोन, सिस्टाइन स्टोन और स्टूवाइट स्टोन जैसी पथरी देखने को मिलती है इस सब पथरी की समस्या में मछली खाने से परहेज करनी चाहिए। क्योंकि मछली के अंदर बहुत से समुद्री लवण पाए जाते है जिनका ढंग से पाचन न होने के कारण यह पहले से पनप रहे स्टोन के आस पास एकत्रित होकर पथरी की समस्या को अधिक बढ़ा देते है। इसी के साथ हाई प्रोटीन सी फूड खाने से भी बचना चाहिए।

पथरी में कौन कौन सी दाल खाना चाहिए?

पथरी की समस्या में डॉक्टर हाई प्रोटीन फूड को अवोइड करने की सलाह देते है लेकिन आप कुलथी की दाल, चने की दाल, चावल, सोयाबीन आदि का सेवन कर सकते है। कुथली की दाल स्टोन के आकार को कम करती है। कुलथी की दाल को नियमित खाने से पथरी धीरे धीरे गल जाती है और यूरिन के रास्‍ते से बाहर निकल जाती है। इन सब के साथ यह दाल पोषण से भरपूर होती है तथा शरीर से प्रोटीन और फाइबर की कमी को दूर करती है।

पथरी में लहसुन खाना चाहिए

किडनी की समस्या होने पर लहसुन खाया जा सकता है लहसुन को खाने से किसी भी तरह की कोई समस्या नहीं होती है। लहसुन में पाए जाने वाले विशेष तत्व किडनी की सूजन को कम करते है जिससे स्टोन की समस्या के दौरान होने वाला दर्द कम होता है। लहसुन में पाया जाने वाला एलिसिन तत्व शरीर में एकत्रित होने वाली गंदगी को शरीर से बहार निकालने का काम करता है। इस प्रकार देखा जाए तो लहसुन पथरी की समस्या में बहुत कारगर साबित हो सकता है। पथरी के साथ साथ बहुत सी अन्य समस्याओं को भी दूर करता है।

5 Comments

  1. Pingback:दाने वाली खुजली का उपचार कैसे करें-Khujali Ke Gharelu Upay

  2. lechenie_vzka

    Клиники Германии для жителей из Украины, Польши, Беларуси, России, Казахстана и других стран!
    германия клиники
    Телефон на сайте! Звони!
    Лечение в лучших клиниках по приемлемым ценам. Оплата на прямую клинике а не компании. Полное медецинское сопровождение.
    Подробнее как поехать читайте тут http://www.forum.ximicat.com/viewtopic.php?p=368597&sid=a90902e42adb6b13cfe0fabe76cffbf3#368597

  3. lechenie_pjka

    Рак – страшнейшая болезнь, которая не спасает и сильных, и умных, и богатых. Однако, есть и тот факт, что в наше время ученые научились справляться с большинством раковых заболеваний. Кстати, лечение рака груди в Германии – одно из самых эффективных. Процедуры, которые проводят в Германии, помогают избавиться от рака навсегда.
    Лечение рака груди в Германии проводится по новейшим методам. В первую очередь, выявление рака происходит с помощью магнитно-резонансной томографии. Это наиболее точный метод для определения опухолей в молочной железе. Далее, проводится операция по удалению раковой опухоли. После этого проводятся химиотерапевтические процедуры.
    сколько стоит лечение рака груди в германии
    Компания Doctor Munhen с 2010 года помогает пациентам с онкологией успешно лечиться в лучших онкоцентрах Германии. Вам не придется мучительно искать хорошую клинику – мы сделаем это за вас и предложим несколько вариантов на выбор с разными ценниками.

  4. lechenie_vmka

    Рак – страшнейшая болезнь, которая не спасает и сильных, и умных, и богатых. Однако, есть и тот факт, что в наше время ученые научились справляться с большинством раковых заболеваний. Кстати, лечение рака груди в Германии – одно из самых эффективных. Процедуры, которые проводят в Германии, помогают избавиться от рака навсегда.
    Лечение рака груди в Германии проводится по новейшим методам. В первую очередь, выявление рака происходит с помощью магнитно-резонансной томографии. Это наиболее точный метод для определения опухолей в молочной железе. Далее, проводится операция по удалению раковой опухоли. После этого проводятся химиотерапевтические процедуры.
    лечение рака молочной железы в германии
    Компания Doctor Munhen с 2010 года помогает пациентам с онкологией успешно лечиться в лучших онкоцентрах Германии. Вам не придется мучительно искать хорошую клинику – мы сделаем это за вас и предложим несколько вариантов на выбор с разными ценниками.

  5. Thurmon

    бахилы ламинированные
    купить мешки под мусор
    пакет для мусора прозрачный

    [url=https://azov.jsprav.ru/hoztovaryi-optom/ooo-mirpak-azov/

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!