मेन्यू बंद करे

पथरी मे परहेज ही है घरेलू इलाज -Pathri Me Kya Na Khaye

पथरी की बीमारी में क्या क्या नहीं खाएं

पथरी की बीमारी से आजकल कई लोग परेशान हैं। इस बात का आप भी अंदाजा लगा सकते हैं कि सिर्फ पथरी का इलाज करने के लिए कई अलग-अलग अस्पताल भी खोले गए हैं। इन अस्पतालों में मरीजों की संख्या भी बहुत देखने को मिलती है। पथरी एक बहुत गंभीर बीमारी है। जितना पथरी का उपचार आवश्यक है उतना ही पथरी मे परहेज भी आवश्यक है।
पथरी की बीमारी में खानपान का मुख्य तौर पर ध्यान देना चाहिए। अगर आपका खान-पान सही हो तो इसका खत्म भी किया जा सकता है। ज्यादा मात्रा में पेय पदार्थ पीने से पथरी ठीक हो सकती है। पेय पदार्थ पथरी के लिए बहुत मददगार होते हैं। खासतौर से पथरी की बीमारी के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से पथरी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।




पथरी की समस्या में डॉक्टर भी आपको रोजाना छह से आठ गिलास पानी पीने की सलाह देते हैं। इसके अलावा आपको अपने डॉक्टर से यह भी पूछना चाहिए। कि आपको 1 दिन में कितना पानी पीना चाहिए। अगर आप पथरी के खतरे को कम करना चाहते हैं। तो आप बेस्ट डाइट प्लान को भी अपनाना चाहिए।



अधिक वजन वाले व्यक्तियों में पथरी की संभावना बढ़ जाती है। पथरी की समस्या को डॉक्टर से ना छुपाए नहीं तो काफी गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। पथरी से झुंझ रहे व्यक्तियों को क्या क्या नहीं खाना चाहिए। यह भी उनको जाना चाहिए। क्योंकि भोजन पथरी को कम करने में अहम भूमिका निभाता है। इस आर्टिकल में आगे हम आपको पथरी से ग्रसित लोगों को क्या-क्या नहीं खाना चाहिए। उसके बारे में बताएंगे।

पथरी कितने प्रकार की होती हैं

पथरी को किडनी स्टोन की समस्या भी कहते हैं। अगर कोई व्यक्ति किडनी स्टोन की समस्या से पीड़ित है, तो उसको अपने डॉक्टर से यह पता करना चाहिए कि उसको कौनसी पथरी है। जिससे इसका इलाज करने में आसानी हो जाती है। अगर आपको पथरी पता चल जाए। तो आप उससे बचाव के आहार का भी सेवन कर सकते हैं। मुख्य तौर पर पथरी चार प्रकार की होती है।

  • कैल्शियम ऑक्सिलेट स्टोन्स
  • कैल्शियम फॉस्फेट स्टोन्स
  • यूरिक एसिड स्टोन्स
  • सिस्टीन स्टोन्स

इन चारों प्रकार की पथरी के लिए आपको अलग अलग डाइट प्लान का पालन करना चाहिए। किडनी में क्या खाना चाहिए इसका डाइट प्लान आप किसी किडनी एक्सपर्ट से ले सकते हैं।



पथरी मे परहेज | पथरी में क्या क्या ना खाएं

प्रोटीन की मात्रा

पथरी के मरीजों को ज्यादा मात्रा में प्रोटीन का सेवन ना करें. ज्यादा प्रोटीन पथरी ग्रसित व्यक्तियों के लिए खतरनाक होता है। पथरी की बीमारी में भोजन में प्रोटीन की मात्रा को सीमित कर ले. ऐसी स्थिति में मीट मछली का सेवन ना करें.

ज्यादा सोडियम

पथरी के पेशेंट को ज्यादा सोडियम नहीं लेना चाहिए। भोजन में सोडियम की मात्रा कम रखनी चाहिए। अधिक सोडियम पथरी के लिए खराब साबित हो जाता है। जंग-फूड डिब्बाबंद खाना का सेवन नहीं करें और घर बनाए हुए खाने में भी सोडियम की मात्रा कम रखें।

ऑक्सलेट के सेवन से बचें

पथरी के बीमारी से जूंझ रहे व्यक्तियों को ऑक्सलेट से परहेज करना चाहिए। पथरी के मरीजों को ऑक्सलेट रहित भोजन किसी भी हाल में नहीं करना चाहिए। जैसे पालक, साबुत का अनाज आदि इनमें भरपूर मात्रा में ऑक्सलेट पाया जाता है।

विटामिन सी के ज्यादा मात्रा

विटामिन सी के ज्यादा मात्रा में सेवन से भी पथरी की समस्या बढ़ सकती है। विटामिन सी अगर आपके शरीर में ज्यादा हो जाए। तो आपके शरीर में किडनी स्टोन की समस्या गंभीर हो सकती हैं। विटामिन सी का कम मात्रा में सेवन करें। जिससे यह खतरा कम हो सके.

बीजो वाली सब्जियों का सेवन

ज्यादा हरी सब्जियों से भी पथरी का रोग गंभीर बीमारी हो सकता है। ऐसी सब्जियों का सेवन कभी नहीं करें. जिसमें बीजों जो। बीच किडनी स्टोन का कारण बन सकते हैं। जैसे टमाटर के बीज, बैंगन के बीज, कच्चा चावल, उड़द, चने आदि का सेवन ना करें. अन्यथा यह समस्या और भी गंभीर हो सकती है।



कोल्ड ड्रिंक का सेवन

पथरी के मरीज को गर्मियों में कोल्ड ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए। कोल्ड ड्रिंक और बाहर के जूस पथरी की समस्या को बढ़ावा देते हैं। वैसे तो पथरी कम करने के लिए पेय पदार्थ का उपयोग किया जाता है। लेकिन कोल्ड्रिंक्स में कई प्रकार के केमिकल मिले होते हैं। जिनकी वजह से पेट में पथरी की मात्रा बढ़ सकती है। वैसे तो नॉर्मल व्यक्ति को भी ज्यादा कोल्ड ड्रिंक का सेवन नहीं करना चाहिए। कोल्ड ड्रिंक शरीर के लिए गर्म करती है। और यह सेहत के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकती है।

0 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *