मेन्यू बंद करे

जानिए क्या है गिलोय के फायदे आपकी सेहत के लिए-Giloy Ke Fayde

गिलोय के फायदे

गिलोय एक बेल रूपी पौधा है, जिसका औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है। यह एक महत्वपूर्ण तथा अत्यधिक प्रभावशाली औषधि पौधा है। इस पौधे का उल्लेख आयुर्वेद में भी किया जाता है। इसे लोगों की कई बीमारियों को ठीक करने में किया जाता है।




इसके क्षेत्र अनुसार तथा भाषाओं के अनुसार इसके कई नाम है; जिनमें से अमृता, गुडूच, चितरंगी आदि। गिलोय आमतौर से जंगलों में तथा पेड़ों के आसपास मिलती है। यह पेड़ों के ऊपर चढ़कर अपना जीवन व्यापन करता है।



वैसे तो इसका पूरा पौधा ही औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, परंतु इसका डंठल अथवा बेला रूपी तना इसका ज्यादा उपयोग में लाया जाता है। इसकी छाल जड़ तना तथा पत्तियों में कुछ फास्फोरस प्रोटीन तथा अन्य महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं।

गिलोय का कैसे सेवन करें

गिलोय के डंठल का काढ़ा

गिलोय के डंठल को कुचल कर इसका काढ़ा बनाकर पी सकते हैं तथा इसको अन्य जड़ी बूटी के साथ मिलाकर भी प्रयोग में ला सकते हैं।

गिलोय का चूर्ण

गिलोय का चूर्ण बनाकर प्रतिदिन दो से 4 ग्राम तक खा सकते हैं तथा इसके विभिन्न भागों का इस्तेमाल भिन्न-भिन्न विधियों का इस्तेमाल करके उपयोग में ला सकते हैं।

गिलोय के फायदे

सर्दी खासी

जब किसी व्यक्ति को सर्दी खांसी तथा जुकाम की समस्या हो जाए तो उसे दो से तीन चम्मच गिलोय का रस हर सुबह पिलाने से खासी काफी हद तक कम हो जाती है तथा आप इसे लगातार उपयोग में लाते हैं दो पूरी तरह से खासी ठीक हो जाएंगे हैं।

कैंसर

यह प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है, जिससे कि कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने में सहायता प्रदान करती हैं। गिलोय का पौधा एक विशेष तथा महत्वपूर्ण औषधि पौधा है वैज्ञानिकों के अनुसार यह भी पता किया गया कि कैंसर पीड़ित मरीजों को किसका रस देने पर लंबे समय तक कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोका जा सकता है।

मोटे व्यक्तियों के लिए फायदेमंद

गिलोय का इस्तेमाल मोटापा कम करने के लिए भी कर सकते हैं। ज्यादातर लोगों को अपने मोटापे से परेशानी होने लगती है, जिस वजह से वहां चल फिर नहीं सकता हम गिलोय का इस्तेमाल करके इसको दूर कर सकते हैं। गिलोय के जून को एक चम्मच शहद में मिलाकर सुबह-शाम खाने से मोटापा दूर हो जाएगा।



पेट के कीड़े

गिलोय के रस का इस्तेमाल करके हम पेट के कीड़े भी मार सकते हैं जिससे शरीर में खून की कमी तथा उसकी शुद्धता को बरकरार रख सकते हैं कुछ दिनों तक इसका नियमित सेवन करें ताकि पूरी तरीके से पेट के कीड़े मर जाए।

डायबिटीज

जिन लोगों को डायबिटीज की बीमारी है वह जानते ही होगे कि इस बीमारी से काफी तकलीफ होती है। लेकिन गिलोय का पौधा डायबिटीज के मरीजों के लिए एक औषधि के रूप में काम करता है। यह डायबिटीज के मरीजों के लिए रामबाण है। गिलोय के तनों से रस निकालकर उसमें थोड़ी हल्दी मिला है और हर सुबह एक चम्मच इसका सेवन रोज करें तो इससे आपकी डायबिटीज नियंत्रित हो जाएगी।

पाचन शक्ति को बढ़ाना

गिलोय के रस को नियमित रूप से पीने से पाचन तंत्र ठीक तरह से काम करते रहता है । इसमें विशेष प्रकार के ऑक्साइड पाए जाते हैं जो पाचन तंत्रिका तंत्र को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है, चाहे तो आप इसे एक चम्मच आंवले के चूर्ण के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं।

आंखों की रोशनी

जिन लोगों को कम दिखाई देता है अथवा आंखों से संबंधित विकारों से परेशान है तो वहां गिलोय का पौधा उनके लिए वरदान साबित होगा।

गिलोय का रस का नियमित रूप से सेवन करने पर आपकी आंखों की रोशनी बढ़ जाएगी तथा इससे संबंधित विकार दूर हो जाएंगे। यह पौधा विभिन्न बीमारियों के लिए कारगर साबित हुआ है।

बुखार नाशक

गिलोय को एक तरह से बुखार नाशक भी कहा जाता है क्योंकि इसमें कुछ अल्कलॉइड्स पाए जाते हैं जो बुखार को कम करने में मदद करते हैं।

जिन लोगों को डेंगू बुखार अथवा सामान्य बुखार की समस्या होता है वह इसका सेवन करें, इससे आपको आराम मिलेगा।

नियमित रूप से यदि कोई व्यक्ति गिलोय के रस का एक से दो चम्मच सुबह तथा शाम सेवन करता है तो वहां बड़े से बड़े बुखार का सामना कर सकता है तथा उससे छुटकारा भी पा सकता है।

ध्यान देने योग्य बातें

गिलोय के पौधे का उपयोग करते समय यह ध्यान में रखे की गिलोय के पत्तों का सेवन ना करें अथवा किसके डंठल का ही प्रयोग करें और आप इसके जड़ों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसका ज्यादा सेवन करने से मुंह में छाले हो सकते हैं तथा इसका उपयोग करने से पहले अपने आसपास के डॉक्टर से सलाह मशवरा करके ही इस्तेमाल करें।



छोटे बच्चों को एक नियमित रूप से ही सेवन कराएं तथा यह भी ध्यान रखें की कम मात्रा ही उनको पिलाना चाहिए।

0 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *