मेन्यू बंद करे

अनचाहे गर्भ का कैसे करें इलायची से गर्भपात-Pregnancy Khatam Karne Ka Tarika

इलायची से गर्भपात

मां बनना हर स्त्री के लिए एक सौभाग्य की बात है, लेकिन कभी कभी स्त्री, पुरूष या परिवार इस स्थिति के लिए तैयार नही होता इसके कई कारण हो सकते है, जैसे आर्थिक स्थिति सही न होना, पहले से ही एक नवजात शिशु का होना, स्त्री को कोई शारिरिक समस्या होना। कभी कभी एक कुमारी स्त्री भी परिस्थितियों के वशीभूत गर्भवती हो जाती है, ऐसे में कई बार डॉक्टर के पास जाने में या तो झिझक होती है या पैसे की कमी। गर्भ गिराने के घरेलू नुस्खे प्राचीन काल से आजमाए जा रहे है और आज हम ऐसे ही घरेलू नुस्खे की बात करेंगे-इलायची से गर्भपात।




लेकिन एक बात का हमेशा ध्यान रखना होगा की गर्भ गिराने के घरेलू नुस्खे 100% सुरक्षित नहीं होते है। इसके लिए बहुत सावधानी बरतने की जरूरत होती है। जब आप पूर्णरूप से सुनिश्चित हो जाए। तभी इनका प्रयोग करे क्योंकि आप इनके असर को उलटा नहीं कर सकते।



सबसे जरूरी और पहली बात यह है गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खों का प्रयोग 10 हफ्ते से पूर्व ही किया जा सकता है। 9 से 10 हफ्ते के बाद भूलकर भी कोई प्रयोग अपने और बच्चे की सेहत के साथ न करे।

इस पीरियड के बाद डॉक्टर को दिखाए और मेडिकल टर्मिनेशन करवाए। गर्भपात के लिए अपनाएं जाने वाले घरेलू नुस्खों में से ही एक नुस्खा है इलायची से गर्भपात करना। तो आज इस आर्टिकल में हम इसी पर प्रकाश डालेंगे।

गर्भ गिराने के घरेलू नुस्खे-Garbh Girane Ke Gharelu Nuskhe

घरेलू नुस्खों में पपीता, अजवायन, अन्नानास का रस, तुलसी का काढ़ा, ड्राई फ्रूट्स, लहसून, विटामिन सी, केले का अंकुर, अजमोद, कोहोश, गर्म पानी, बाजरा, गाजर के बीज, तिल, ग्रीन टी, ब्लड प्रेशर बढ़ाने वाली चीज़े, अनार के बीज, कैमोमाइल तेल का प्रयोग खूब किया जाता है।



लेकिन हम यहां बात करेंगे केवल इलायची की, तो इलायची से गर्भपात करने का तरीका आपको बताते है।

इलायची को कई प्रकार से गर्भपात के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

इलायची से गर्भपात-Pregnancy Khatam Karne Ka Tarika

  • इलायची के बीजो को पीसकर चूर्ण बना ले, एक चम्मच चूर्ण को शहद के साथ दिन में तीन बार ले और ब्लीडिंग होने तक कंटिन्यू रखे।
  • एक चम्मच दालचीनी पाउडर और 5 इलायची को कूटकर एक गिलास पानी मे ढककर उबाल लें, छान कर रख ले। दिन में तीन बार 50ml पिए।
  • गाजर के बीज और इलायची को पूरी रात पानी मे भिगो दें, सुबह गाजर के बीज और इलायची के साथ ही इस पानी को उबले और पी ले। ऐसा लगातार ब्लीडिंग होने तक करें।
  • तुलसी के पत्तो को इलायची के साथ पीस ले और इस मिश्रण का रोज शहद के साथ सेवन करे।

घरेलू नुस्खों से गर्भपात कब खतरनाक हो सकता है।

अगर आप बिना डॉक्टरी सलाह के कोई भी तरीका अपना रही है किसी अज्ञानी व्यक्ति से, खुद के द्वारा अथवा घरेलू दाई से गर्भपात करवा रही है।

  • पर्याप्त चिकित्सा सुविधाओं के बिना गर्भपात करवाना।
  • 10 हफ़्तों के बाद घरेलू नुस्खों से गर्भपात करने की कोशिश कर रही है। बिना डॉक्टर की सलाह के मेडिकल स्टोर से दवा लेकर गर्भपात करना।
  • दाई या झोला छाप डॉक्टर से पेट की मालिश करवाकर गर्भ गिरवाना।

घरेलू नुस्खों से गर्भपात के नुकसान

इन उपायों से महिला को एलर्जी हो सकती या उल्टी व चक्कर आ सकते हैं। यहां तक कि महिला की मृत्यु भी हो सकती है। हो सकता है गर्भपात पूरी तरह से न हो अर्थात गर्भाशय में भ्रुण का कुछ भाग रहा जाए जो बाद में इन्फेक्शन फैला दे। इस तरह गर्भपात के तरीके अपनाने से योनि को भारी क्षति हो सकती है, अंदरूनी हिस्सो पर बुरा प्रभाव पड़ सकता हैं। हो सकता है इन सबके बाद भी गर्भपात न हो और शिशु को कोई बर्थ डिफेक्ट हो जाये।



इसलिए जो भी करे सोच विचार कर करे। घरेलू गर्भपात के कारण स्थिति बिगड़ने पर जल्द से जल्द मेडिकल हेल्प ले।

1 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *