मेन्यू बंद करे

क्या है जल्दी डिलीवरी होने के उपाय-Jaldi Delivery Hone Ke Upay

जल्दी डिलीवरी होने के उपाय

बच्चे के जन्म के साथ ही एक मां का भी दूसरा जन्म होता है। डिलीवरी ले दौरान जो कष्ट एक माँ झेलती है उसकी कल्पना भी करना मुश्किल है। चाहे वो कष्ट लेबर पेन का हो सिजेरियन के बाद होने वाले संघर्ष का। ऐसे में हर स्त्री की इच्छा होती है कि कोई ऐसा तरीका हो जिससे कम से कम कष्ट झेलना पड़े।

डिलीवरी से पहले महिला का तनाव में होना एक सामान्य सी बात है। लेकिन जरूरी है कि एक सहज और सामान्य प्रसव के लिए माँ शांत और तनाव मुक्त हो। आज हम आपको ऐसे ही कुछ तरीके बताएंगे जिससे कि डिलीवरी जल्दी और आसानी से हो।

जल्दी डिलीवरी होने के उपाय-Jaldi Delivery Hone Ke Upay

भरपूर नींद ले

नींद का स्वास्थ्य से बहुत ही गहरा रिश्ता है, नींद हमारे पूरे शरीर को हील करती है। भरपूर नींद लेना सबसे जरूरी है जल्दी और आसान डिलिवरी के लिए।

जरूरी है कि गर्भवती महिला कम से कम 7 से 8 घण्टे की गहरी नींद ले। गर्भवती स्त्री नरम, त्वचा के अनुकूल तकिए और रेक्लाइनर पलंग के साथ बेहतर तरीके से आराम करें।

खजूर खाएं

प्राचीन समय से ऐसा माना जाता है कि खजूर में ऐसे तत्व पाए जाते है जो गर्भाशय के संकुचन को बढ़ाते है। इसलिए जब आपका डिलीवरी का समय नजदीक आये तब खजूर का सेवन शुरू कर दे। गर्भावस्था की शुरुआत में खजूर खाने से बचे क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है। खजूर गर्भाशय ग्रीवा (सर्विक्स) को चौड़ा करने के लिए भी मददगार होते हैं

व्यायाम करें

गर्भवती स्त्री को डिलीवरी को आसान बनाना है तो व्यायाम से बेहतर कुछ नही। लेकिन बहुत ही आवश्यक है कि सभी व्यायाम एक परफेक्ट ट्रेनर की देख रेख में हो।

इसके लिए फिजियोथेरेपी को एक विकल्प के तौर पर चुना जा सकता है। आपको आपकी स्थिति के अनुसार व्यायाम बताए जाएंगे। स्वयं से आप घर पर स्क्वाट कर सकती है।

स्क्वाट्स करने के लिए, एक मेडिसिन बॉल लें और इसे पीठ के निचले हिस्से और दीवार के बीच रखकर, पंजों और घुटनों को जितना संभव हो, उतना फैलाकर घुमाएं। ऐसा करने से डिलीवरी आसान और जल्दी होगी।

वॉटर बर्थ

आजकल जल्दी डिलीवरी के लिए बहुत से हॉस्पिटल में वाटर बर्थ का इस्तेमाल किया जा रहा है। अगर आपके हॉस्पिटल में इसकी सुविधा है तो उसका लाभ जरूर उठाए।

पानी डिलीवरी के दौरान गर्भवती स्त्री को रिलैक्स करता है। लेबर पेन को कम करता है। पानी तनावग्रस्त मांसपेशियों को शांत करने और सर्विक्स के फैलाव में भी मदद करता है और इस प्रकार प्रसव में सहायता करता है।

लेट कर प्रेशर न लगाएं

अध्धयन कहता है कि अगर यदि प्रसव के समय गर्भवती महिला बिस्तर पर बैठकर पुश करे तो डिलीवरी आसानी से और जल्दी होती है।इसका कारण यह है कि पृथ्वी का गुरुत्वाकर्षण बल इस प्रेशर को डबल करता है।

गुरुत्वाकर्षण के कारण बच्चे के सिर के कारण सर्विक्स पर जोर पड़ता है जिससे यह उसे अधिक तेजी से और अधिक आसानी से फैलने में मदद करता है।

ज्ञान बढ़ाये

पहली बार बनने वाले माता पिता के मन मे सैंकड़ो उलझने होती है। यही उलझने तनाव का कारण बनती है। ऐसे में जरूरी की माता पिता खासकर गर्भवती स्त्री बच्चो के जन्म से सम्बंधित किताबे पढ़े। एक एक स्टेप को जाने और उसके लिए तैयार रहे। यही ज्ञान प्रसव के समय उनके मन को निश्चिंत रखता है और पूरा ध्यान प्रसव में होने के कारण प्रसव जल्दी और आसान हो सकता है।

प्राणायाम करे

एक आसान प्रसव के लिए सही तरीके से सांस लेना बहुत जरूरी है, तो इसके लिए गर्भवती महिला अपने रूटीन में प्राणायाम की आदत डालें
इससे प्रसव के समय महिला एक लयबद्ध तरीके से सांस ले पाएगी, जिससे शरीर मे ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन जायेगी, मसल्स रिलैक्स होंगी और पीड़ा कम होगी।

मालिश कराएं

प्रसव के समय अपनी मालिश करवाना बहुत ही बेहतरीन तरीका है, यदि आपका जीवनसाथी आपकी मालिश करे तो इससे आपको एक सिक्योरिटी की फीलिंग आएगी। देखभाल और समर्थन का एहसास होता है। इससे प्रसव प्रक्रिया को जल्दी करने में भी बहुत मदद मिलती है।

इसके अलावा सैर करना और विटामिन से भरपूर भोजन करना आपको एक स्वस्थ्य और आसान प्रसव देगा।

0 Shares

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *